आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार,

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार

 आपकी समस्याओं के अनुरूप डॉक्टर द्वारा विशेष रूप से एक उपचार योजना तैयार की जाती है। आपके विशिष्ट शारीरिक और भावनात्मक मुआवजे और तीन तत्वों के बीच संतुलन को ध्यान में रखते हुए आपको आयुर्वेदिक दवा दी जाती है।

भौतिक चिकित्सा

आयुर्वेदिक चिकित्सा दुनिया में भौतिक चिकित्सा की सबसे पुरानी और समग्र प्रणालियों में से एक है। इसे भारत में 5000 साल पहले विकसित किया गया था। बदलती जीवन शैली में मनुष्य त्वरित राहत के लिए अलगअलग और सहज तरीके अपना रहा है, लेकिन असाध्य रोगों को जड़ से खत्म करने के लिए आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति रामबाण है। इससे कई बीमारियों से बचा जा सकता है और कुछ बीमारियों को हावी होने से भी रोका जा सकता है। खास बात यह है कि इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

आयुर्वेद शब्द का अर्थ: आयुर्वेद एक संस्कृत शब्द है जिसका हिंदी में अर्थ हैजीवन का विज्ञान” (संस्कृत में मूल शब्द आयु का अर्थ हैलंबा जीवनया आयु और वेद का अर्थ हैविज्ञान”) 

आयुर्वेद का विश्लेषण:

आयुर्वेद का आधार तन और मन का संतुलन है। स्वास्थ्य भी इसी नाजुक संतुलन पर निर्भर करता है। इसका मुख्य लक्ष्य अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देना है, कि केवल बीमारी से लड़ना। लेकिन आयुर्वेद चिकित्सा विशिष्ट स्वास्थ्य समस्याओं के लिए तैयार की जा सकती है। संयुक्त राज्य अमेरिका में इसे पूरक और वैकल्पिक चिकित्सा (सीएएम) का एक रूप माना जाता है।

आयुर्वेदिक जीवन शैली

जिन पांच तत्वों से हमारा शरीर बना है, उनके आधार पर उससे जुड़े दोषों और रोगों को दूर किया जा सकता है। ऐसे में स्वस्थ शरीर के लिए आयुर्वेदिक जीवनशैली का पालन करना जरूरी हो जाता है। इस जीवन शैली को अपनाकर हम ऐसे भोजन का सेवन करते हैं, जो शरीर के लिए लाभकारी हो और जिससे कोई नुकसान हो। ऐसे में एक आयुर्वेदिक जीवन शैली को ही माना जाता है, जिसमें ऐसी चीजों का इस्तेमाल किया जाता है जो प्राकृतिक उत्पादों से बनी होती हैं और जिनमें रसायनों की मात्रा कम होती है। इसमें खानेपीने का तरीका भी सामान्य तरीके से अलग होता है।

कंपनीकेरल आयुर्वेदपिछले सात दशकों से सभी प्रकार के आयुर्वेदिक उत्पाद उपलब्ध कराकर लोगों के जीवन को आसान बना रही है। आयुर्वेदिक दवाएं कठिन बीमारियों के इलाज में मदद कर सकती हैं और शरीर को मजबूत और रोग मुक्त बना सकती हैं। जैविक आयुर्वेदिक पदार्थों के सेवन से त्वचा और बाल भी स्वस्थ्य रह सकते हैं। इस तरह इनसे जुड़ी परेशानियां अपने आप दूर हो जाती हैं। आयुर्वेदिक जीवनशैली में समय पर सोना, अनुकूलित भोजन करना, नियमित व्यायाम करना और नशीली दवाओं जैसी बुरी आदतों से दूर रहना शामिल है।

आयुर्वेद और प्राण ऊर्जा (प्राण):

आयुर्वेद सिर्फ एक जड़ी बूटी नहीं है। आयुर्वेद एक प्राचीन प्रणाली है। सीएएम थेरेपी के छात्र मानते हैं कि जीवन और मृत्यु एक दूसरे से सार्वभौमिक रूप से संबंधित हैं। यदि आपका मन, शरीर और आत्मा इस सार्वभौमिक सद्भाव को बनाए रखते हैं, तो आपका स्वास्थ्य अच्छा रहता है। जब कोई चीज इस संतुलन को बिगाड़ती है, तो आप बीमार पड़ जाते हैं। इस संतुलन को बिगाड़ने वाली चीजों में आनुवंशिक या जन्म दोष, चोट, जलवायु, मौसमी परिवर्तन, उम्र और आपकी भावनाएं शामिल हो सकती हैं।

आयुर्वेद का अभ्यास

आयुर्वेद का अभ्यास करने वालों का मानना ​​है कि प्रत्येक व्यक्ति ब्रह्मांड में पाए जाने वाले पांच मूल तत्वों से बना है: ईथर, वायु, अग्नि, जल और पृथ्वी। ये मानव शरीर में तीन जीवन शक्तियों या ऊर्जाओं को जोड़ती हैं, जिन्हेंदोषभी कहा जाता है। वे नियंत्रित करते हैं कि आपका शरीर कैसे काम करता है। ये तीन दोषों के नाम हैंवात दोष (आकाश और वायु तत्वों की अधिकता); पित्त दोष (अग्नि और जल तत्वों की अधिकता); और कफ दोष (पानी और पृथ्वी तत्वों की अधिकता)

सभी को तीन दोषों का एक अनूठा मिश्रण विरासत में मिला है। लेकिन कोई भी एक दोष आमतौर पर दूसरों की तुलना में अधिक मजबूत होता है। प्रत्येक दोष एक अलग शरीर समारोह को नियंत्रित करता है। ऐसा माना जाता है कि आपके बीमार होने की संभावनाऔर आपके द्वारा विकसित की जाने वाली शारीरिक समस्याएंआपके दोषों के संतुलन से जुड़ी हैं।

चिकित्सा और आयुर्वेदिक चिकित्सा की आयुर्वेदिक प्रणाली

आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार, आपकी समस्याओं के लिए विशेष रूप से तैयार की गई उपचार योजना डॉक्टर द्वारा बनाई जाती है। आपके विशिष्ट शारीरिक और भावनात्मक मुआवजे और इन तीन तत्वों के बीच संतुलन को ध्यान में रखते हुए आपको आयुर्वेदिक दवा दी जाती है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा और आयुर्वेदिक चिकित्सा का लक्ष्य शरीर को शुद्ध करना है। इस सफाई प्रक्रिया कोपंचकर्मकहा जाता है। शरीर में जो भोजन बिना पचाए रह जाता है, उसे हम अनुपयोगी या बेकार समझ लेते हैं। यह बेकार खाना आपके शरीर में रह सकता है और बीमारी का कारण बन सकता है। यह शरीर शुद्धिकरण, विभिन्न दवाओं और चिकित्सा प्रणालियों के माध्यम से किया जा सकता है, जिसके लिए एक आयुर्वेदिक चिकित्सक रक्त शोधन, मालिश, औषधीय तेल, जड़ीबूटियों और एनीमा या जुलाब पर भरोसा कर सकता है।

आयुर्वेदिक जीवन शैली

हमारा शरीर जिन पांच तत्वों से भरा है, उनके आधार पर ही हमारे शरीर के दोषों का समाधान और रोगों का उपचार भी पाया जाता है। इसीलिए पौराणिक विज्ञान में भी आयुर्वेद को जीवन का आधार माना गया है।

अपने दैनिक जीवन की भागदौड़ में हम जीवन के इसी आधार को भूलते रहते हैं। हम भूल गए हैं कि भोजन शरीर की आवश्यकता है, मनोरंजन की नहीं। हम अक्सर स्वादिष्ट भोजन और नवीन भोजन के पीछे स्वस्थ की अनदेखी करते हैं।

आयुर्वेदिक टिप्सआयुर्वेदिक जीवनशैली 

रोजमर्रा की जिंदगी में कई छोटीमोटी बीमारियां होती रहती हैं। आयुर्वेदिक जीवनशैली से इस तरह की बीमारियों से बचा जा सकता है। ऐसे ही कुछ आयुर्वेदिक टिप्स को ध्यान में रखें:

  • शरीर के अनुकूल भोजन
  • समय पर सोएं
  • शारीरिक आराम और अच्छी नींद
  • दोहरावदार व्यायाम
  • बुरी आदतों का नाश और नशीले पदार्थों से परहेज आदि।

आयुर्वेद में पानी पीने के तरीके:

  • सुबह उठकर रोज गुनगुना पानी पिएं
  • कभी भी साथ में पानी पिएं, एकएक कर पानी पिएं
  • बैठकर पानी पिएं, खड़े हों
  • आयुर्वेद में खाना खाने के तरीके:
  • भोजन को अच्छे से चबाएं
  • सुबह का नाश्ता जरूर करना चाहिए और वो भी भरपूर
  • भोजन करते समय पेट में थोड़ी सी जगह रखनी चाहिए।
  • शाम को 8 बजे तक रात का भोजन करें, तो भोजन का पाचन और नींद भी अच्छी रहती है।
  • आयुर्वेद के लाभ
  • आयुर्वेदिक विज्ञान कोई चमत्कार नहीं है, लेकिन आयुर्वेद के चमत्कारों के उदाहरण भी कम नहीं हैं। अमेरिका में, कुछ राज्य राज्यअनुमोदित!

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Shopping Cart